Cloud Computing क्या है

Cloud Computing क्या है इसका उपयोग और फायदे?

Cloud Computing क्या है : क्लाउड कंप्यूटिंग एक कंप्यूटिंग मॉडल है जिसमें डाटा सॉफ्टवेयर और रिसोर्स इंटरनेट के थ्रू रिमोट सर्वर पर स्टोर और एक्सेस किए जाते हैं यहां तक की आपको अपने लोकल डिवाइस पर इन चीजों को स्टोर या मैनेज करने की जरूरत नहीं होती क्लाउड कंप्यूटिंग के मुख्य कॉम्पोनेंट्स और कॉन्सेप्ट के बारे में पूरी जानकारी कुछ इस प्रकार है :-
 

Cloud Computing क्या है

 
क्लाउड कंप्यूटिंग एक कंप्यूटिंग मॉडल है जिसमें डाटा सॉफ्टवेयर और रिसोर्स इंटरनेट के थ्रू रिमोट सर्वर पर स्टोर और एक्सेस किए जाते हैं यहां तक की आपको अपने लोकल डिवाइस पर इन चीजों को स्टोर या मैनेज करने की जरूरत नहीं होती
 

Cloud Infrastructure

 

Data Centers

 
क्लाउड इंफ्रास्ट्रक्चर डाटा सेंटर्स क्लाउड प्रोवाइडर्स के पास बड़े डाटा सेंटर्स होते हैं जहां पर सर्विस और स्टोरेज डिवाइस होते हैं यह डाटा सेंटर फिजिकल सीकर होते हैं और redundant नेटवर्क कनेक्शन से जुड़े होते हैं
 

Virtualization

 
सरवर को वर्चुअल मशीन में कन्वर्ट किया जाता है जिससे मल्टीप्ल यूजर्स उन्हें एक साथ इस्तेमाल कर सकते हैं
 

Storage

 
डाटा को सीकर और इसके scalable तरीके से स्टोर किया जाता है जैसे कि ऑब्जेक्ट स्टोर और फाइल स्टोरेज
 

 Service Models

Infrastructure as a Service (IaaS)

इसमें यूजर्स को virtualized कंप्यूटिंग रिसोर्स मिलती है जैसे कि वर्चुअल मशीनस स्टोरेज और नेटवर्किंग यूजर्स खुद एप्लीकेशंस और ऑपरेटिंग सिस्टम मैनेज करते हैं
 

Platform as a Service (PaaS)

 
इसमें यूजर्स को एक डेवलपमेंट एनवायरमेंट मिलती है जहां पर वह एप्लीकेशन डेवलप और डेप्लॉय कर सकते हैं बिना इंफ्रास्ट्रक्चर के कंसर्न के
 

Software as a Service (SaaS)

 
इसमें यूजर्स को फुली फंग्शनल सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन मिलती है जो क्लाउड पर रन करते हैं उदाहरण के लिए जीमेल माइक्रोसॉफ्ट 365
 

Deployment Models

 

Public Cloud

यह क्लाउड सर्विस पब्लिक इंटरनेट के थ्रू accessible होती है और किसी भी यूजर्स के लिए अवेलेबल होती है उदाहरण के लिए AWS, Azure.
 

Private Cloud

 
प्राइवेट क्लाउड आर्गेनाइजेशन के लिए होता है जहां पर रिस्ट्रिक्टेड एक्सेस होती है इसका इस्तेमाल सिक्योरिटी या रेगुलेटरी कंपनी के लिए होती है
 

Hybrid Cloud

 
इसमें पब्लिक और प्राइवेट क्लाउड दोनों का कॉन्बिनेशन होता है जिससे ऑर्गेनाइजेशन अपने स्पेसिफिक नीड के हिसाब से इस्तेमाल कर सकते हैं
 

Cloud Computing के उपयोग

 
क्लाउड कंप्यूटिंग का उपयोग कई तरीकों से किया जा सकता है
 

Data Storage

 
क्लाउड कंप्यूटिंग से आप अपने डेटा को रिमोट सर्वर पर स्टोर कर सकते हैं जिससे आपके डाटा को secure रखा जा सकता है और आप उसमें कहीं से भी एक्सेस कर सकते हैं
 

Web Hosting

 
वेबसाइट और वेब एप्लीकेशन को क्लाउड सर्वर पर पोस्ट किया जा सकता है जिससे एक्सेसिबिलिटी और परफॉर्मेंस का फायदा उठाया जा सकता है
 

Scalability

 
क्लाउड कंप्यूटिंग आपको आसानी से रिसोर्स जैसे कि कंप्यूटर पावर स्टोरेज और बैंडविथ को स्केल करने की अनुमति देता है जिससे आप अपने बिजनेस के अनुरूप रिसोर्स इस्तेमाल कर सकते हैं
 

Backup और Disaster Recovery

 
क्लाउड कंप्यूटिंग के माध्यम से आप अपने डेटा का बैकअप बना सकते हैं और डिजास्टर रिकवरी प्लान बना सकते हैं ताकि डाटा लॉस होने पर भी आप अपने डेटा को खुद से वापस आ सके
 

Software as a Service (SaaS)

 
के रूप में आप क्लाउड पर चलने वाले सॉफ्टवेयर का उपयोग कर सकते हैं जैसे की email, collaboration tools, और प्रोडक्टिविटी एप्लीकेशन
 

Development and Testing

 
डेवलपर ओर टेस्टर क्लाउड इंफ्रास्ट्रक्चर का उपयोग करके एप्लीकेशन का डेवलपमेंट और टेस्टिंग कर सकते हैं बिना फिजिकल हार्डवेयर के उपयोग किए बिना।
 

Machine Learning और AI

 
क्लाउड कंप्यूटिंग मशीन लर्निंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का विकास करने में भी मददगार होता है क्योंकि इसमें हाई परफार्मेंस कंप्यूटिंग रिसोर्सेस उपलब्ध होती हैं
 
 

IoT (Internet of Things)

 
डिवाइसेज डाटा को क्लाउड पर सेंड करके एनालिसिस और मॉनिटरिंग के लिए क्लाउड कंप्यूटिंग का उपयोग करते हैं
 
यह सिर्फ कुछ उपयोगी क्षेत्र हैं, क्लाउड कंप्यूटिंग के और भी प्रयोग है जो व्यापक रूप से व्यापक है इससे व्यावसायिक प्रशासन व्यावसायिक समाधान और व्यावसायिक विकास में भी मदद मिलती है
 

Cloud Computing के फायदे

 

Scalability

आप रिसोर्सेज को इजीली स्केल अप या डाउन कर सकते हैं
 

Cost-Efficiency

Pay-as-you-go model आपको सिर्फ इस्तेमाल की गई रिसोर्सेज के लिए पेमेंट करने की फ्लैक्सिबिलिटी देता है
 

Accessibility

किसी भी जगह से किसी भी डिवाइस से डाटा और एप्लीकेशन तक पहुंच सकते हैं
 

Reliability

क्लाउड प्रोवाइड रीजेंसी और डाटा बैकअप की सुविधा प्रदान करते हैं
 

Security

क्लाउड प्रोवाइडर्स क्लाउड प्रोवाइडर्स robust security measures इंप्लीमेंट करते हैं लेकिन डाटा सिक्योरिटी भी आपकी जिम्मेदारी होती है
 
क्लाउड कंप्यूटिंग आर्गेनाइजेशन को अपनी आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर को ऑप्टिमाइज करने और agility बढ़ाने में मददगार होता है इसमें डाटा लॉस और डिजास्टर रिकवरी का रिस्क भी काम होता है
 

FAQ

क्लाउड कंप्यूटिंग कितने प्रकार के होते हैं?

* पब्लिक क्लाउड कंप्यूटिंग (Public Cloud Computing)
* प्राइवेट क्लाउड कंप्यूटिंग (Private Cloud Computing)
* हाइब्रिड क्लाउड कंप्यूटिंग (Hybrid Cloud Computing)
* कम्युनिटी क्लाउड कंप्यूटिंग (Community Cloud Computing)

क्लाउड में कौन कौन सी फाइल अपलोड की जा सकती है?

गूगल के ब्लॉग पोस्ट के अनुसार, स्टोरेज में फाइल्स, गाने, वीडियो और फोटोज स्टोर कर सकते हैं.

क्लाउड में कितना स्टोरेज है?

साइज 15GB से बढ़ाकर 1TB कर दिया है. पर यह सर्विस पैड भी हो सकती है 

क्लाउड सर्वर कितना बड़ा होता है?

8 GiB और 64 GiB के बीच

क्लाउड कंप्यूटिंग की शुरुआत कब हुई?

1960 में 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *