कंप्यूटर धीमा क्यों चलता है?

कंप्यूटर धीमा क्यों चलता है?

क्या आपका कंप्यूटर धीरे-धीरे चल रहा है, जिससे आपको परेशानी  हो रही है? एक धीमा कंप्यूटर  आपके काम को बहोत प्रभावित कर सकता है और सामान्य कार्यों को भी बहुत बड़ा काम जैसे महसूस करा सकता  है। आपके कंप्यूटर के धीमा चलने के कई कारण हो सकते हैं, नीचे दिए गए टिप्स से इसे तेज करने के तरीके ढूंढने में मदद मिल सकती है। चलिए इन परेशानियों और इन्हें ठीक करने के तरीकों को जानते हैं।

कंप्यूटर धीमा क्यों चलता है?

1. हार्डवेयर संसाधनों की कमी:
कंप्यूटर धीमा हो सकता है यदि उसमें पर्याप्त ताकत नहीं है। यदि आपका प्रोसेसर, रैम या हार्ड ड्राइव पुराना है या आपके कार्यों के लिए पर्याप्त शक्ति नहीं है, तो आपका कंप्यूटर धीमा होगा। अपनी सिस्टम विशेषताओं की जांच करें और यदि आवश्यक हो तो अपने हार्डवेयर को अपग्रेड करें। रैम बढ़ाना, एक तेज CPU पर अपग्रेड करना या सॉलिड स्टेट ड्राइव (SSD) पर स्विच करना आपके कंप्यूटर की गति को काफी बढ़ा सकता है।

2. सॉफ़्टवेयर भार:
समय के साथ, आपका कंप्यूटर अनावश्यक प्रोग्रामों, और सिस्टम फ़ाइलों को इकट्ठा कर सकता है जो मूल्यवान सिस्टम संसाधनों का उपयोग करते हैं। इस प्रकार के सॉफ़्टवेयर ब्लोट के कारण आपका कंप्यूटर धीमा हो सकता है। नियमित रूप से अपने कंप्यूटर पर उपयोग नहीं करने वाले प्रोग्रामों की समीक्षा करें और उन्हें अनइंस्टॉल करें, और अनावश्यक स्टार्टअप एप्लिकेशन को डिसेबल करें या हटा दें। इसके अलावा, डिस्क क्लीनअप और डिफ़्रैगमेंटेशन करने से आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन को ऑप्टिमाइज़ किया जा सकता है, जिससे फ़ाइलों को संगठित किया जाता है और डिस्क स्थान मुक्त करने में मदद मिलती है।

3. मैलवेयर और वायरस:
मैलवेयर और वायरस आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन पर बहुत असर डाल सकते हैं। वे सिस्टम संसाधनों का उपभोग करते हैं, आवारागमन को बढ़ाते हैं, बार-बार क्रैश करने का कारण बनते हैं और समग्र संचालन को धीमा करते हैं। यह सुनिश्चित करें कि आपके कंप्यूटर में विश्वसनीय एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर स्थापित है और इसे नियमित रूप से अपडेट करें ताकि आपका कंप्यूटर ख़तरनाक संकटों से सुरक्षित रहे। नियमित सिस्टम स्कैन करें ताकि आपकी सिस्टम को कंप्यूटर को धीमा करने वाले किसी भी मैलवेयर को पता लगा सकें और उसे हटा सकें।

4. हार्ड ड्राइव का फुल होना :
टुकड़े-टुकड़े या लगभग पूर्ण हार्ड ड्राइव के कारण महत्वपूर्ण धीमा पड़ सकता है। जब फ़ाइलें टुकड़े हो जाती हैं, यानी वे हार्ड ड्राइव पर गैर-संबंधित ब्लॉकों में संग्रहीत होती हैं, तो कंप्यूटर को उन्हें एक्सेस करने में अधिक समय लगता है। नियमित रूप से अपनी हार्ड ड्राइव को डिफ़्रैगमेंट करने से फ़ाइल एक्सेस की गति में सुधार हो सकता है। इसके अलावा, पर्याप्तिरित और उचित डिस्क स्थान रखने से आपका कंप्यूटर आपके द्वारा सहजता से काम कर सकता है। सुचारू रूप से कम से कम 10-15% हार्ड ड्राइव स्थान को मुक्त रखने का प्रयास करें ताकि सुचारू रूप से काम कर सकें।

5. पुराने या ऑउटडेटेड  ड्राइवर:
पुराने या असंगत डिवाइस ड्राइवर प्रदर्शन समस्याओं का कारण बन सकते हैं। ड्राइवर्स हार्डवेयर संघटकों और ऑपरेटिंग सिस्टम के बीच संचार को सुनिश्चित करते हैं। निर्माता की वेबसाइट पर जाकर या ड्राइवर अपडेट सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके सुनिश्चित करें कि आपके ड्राइवर अद्यतित हैं। अद्यतित ड्राइवर संगतता समस्याओं को हल कर सकते हैं और सिस्टम प्रदर्शन में सुधार कर सकते हैं।

6. गर्मी का प्रभाव:
अत्यधिक गर्मी आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन पर बुरा असर डाल सकती है। यदि आपका कंप्यूटर गर्म हो जाता है, तो यह स्वचालित रूप से सीपीयू की गति को घटा देगा ताकि कोई क्षति न हो। यह सुनिश्चित करें किआपके कंप्यूटर के ठंडन सिस्टम, जैसे कि पंखे और वेंट, साफ़ और धूल से मुक्त हों। अधिकतम तापमान बनाए रखने के लिए कूलिंग पैड या बाहरी पंखों का उपयोग करना विचार करें।

7. उम्र और क्षय:
दूसरे किसी टेक्नोलॉजी की तरह, कंप्यूटर भी समय के साथ उम्र बढ़ाते हैं और क्षय होते हैं। घटक बर्बाद हो जाते हैं, थर्मल पेस्ट सूख जाती है और प्रदर्शन धीरे-धीरे कम हो जाता है। यदि आपका कंप्यूटर पुराना और धीमा है, तो यह समय हो सकता है कि आप नया खरीदने या व्यक्तिगत घटकों को अपग्रेड करने का विचार करें।

एक धीमा कंप्यूटर अभिन्न कारकों के कारण हो सकता है, जो निर्मात्रा हार्डवेयर संसाधनों से लेकर सॉफ़्टवेयर संबंधित समस्याओं तक विभिन्न हो सकते हैं। धीमी होने की वजह का पता लगाने से, आप समस्या को हल करने के लिए उचित कदम उठा सकते हैं। नियमित रूप से हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर रखरखाव,मैलवेयर से अपने सिस्टम की सुरक्षा रखना और सॉफ़्टवेयर और ड्राइवर अपडेट करने के बारे में सतर्क रहना आपके कंप्यूटर अनुभव को सुगम और कुशल बनाने में बहुत मदद कर सकता है।

अब जब आपको कंप्यूटर को धीमा करने के कारणों के बारे में अच्छी जानकारी हो गई है, आप उचित कदम उठा सकते हैं। नियमित रूप से अपने कंप्यूटर को स्कैन करें, गैरजरूरी प्रोग्रामों और फ़ाइलों को हटाएं, विन्डोज अपडेट करें और ड्राइवरों को अद्यतित रखें। इसके अलावा, डिस्क क्लीनअप और डिफ़्रैगमेंटेशन जैसे उपकरणों का उपयोग करें जो आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन को अधिक तेज बनाने में मदद कर सकते हैं।

ध्यान देने योग्य है कि अगर आपके कंप्यूटर बहुत पुराना है और उपग्रेड करने के लिए अधिक अवसर नहीं है, तो आप नया कंप्यूटर खरीदने का विचार कर सकते हैं। नवीनतम हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर के साथ नया कंप्यूटर आपको अदूसरे कंप्यूटर की तुलना में बेहतर और तेज़ प्रदर्शन प्रदान कर सकता है। इसके अलावा, यदि आपके कंप्यूटर का कोई विशेष घटक या संघटक बिगड़ गया है, तो आप उसे अपग्रेड करके भी प्रदर्शन में सुधार कर सकते हैं।

आखिरी शब्द में, एक धीमा कंप्यूटर आपकी प्रदर्शन क्षमता और काम करने की क्षमता पर असर डाल सकता है। आपको अपने कंप्यूटर की स्थिति की जाँच करनी चाहिए, संभावित कारणों को पहचानना चाहिए और उचित कदम उठाने चाहिए। हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर की नियमित रखरखाव, सुरक्षा उपायों का पालन करना, और सुधारों को लागू करके आप अपने कंप्यूटर को तेज़, सुगम, और कुशल बना सकते हैं।

 

कंप्यूटर को कैसे ठीक करें

यहाँ कुछ टिप्स हैं जिनसे आप एक धीमे कंप्यूटर को ठीक कर सकते हैं और प्रदर्शन को बढ़ा सकते हैं:-

एक धीमा कंप्यूटर बहुत ही असहज कारण हो सकता है, लेकिन अच्छी खबर यह है कि इसे बेहतर करने के कई स्टेप्स हैं । यहाँ कुछ प्रभावी तरीके हैं एक धीमे कंप्यूटर को ठीक करने के लिए:

1. अपनी हार्ड ड्राइव को साफ़ करें:
हार्ड ड्राइव को स्वचालित करें। अपवादित फ़ाइलें हटाएं, जैसे कि टेम्परेरी  फ़ाइलें, पुराने डाउनलोड और अनुपयोगी प्रोग्राम। विंडोज़ पर बने हुए डिस्क क्लीनअप टूल या CCleaner जैसे थर्ड पार्टी एप्लिकेशन का उपयोग करें ताकि आप अनावश्यक फ़ाइलें पहचान सकें और हार्ड ड्राइव पर जगह ले रही हैं उन्हें हटा सकें। अधिक मुक्त डिस्क स्थान का निर्माण करने से आपके कंप्यूटर का प्रदर्शन सुधार सकता है।

2. हार्ड ड्राइव को डेफ़्रैगमेंट करें:
अगर आपकी हार्ड ड्राइव टुकड़े-टुकड़े हो गई है, तो फ़ाइल एक्सेस करने का समय धीमा हो सकता है। हार्ड ड्राइव को डेफ़्रैगमेंट करने से फ़ाइलें संगठित होती हैं और उन्हें संयुक्त बनाया जाता है, जिससे फ़ाइलें तेज़ी से प्राप्त होती हैं। विंडोज पर, आप इंटीग्रेटेड डिस्क डेफ़्रैगमेंटर टूल का उपयोग कर सकते हैं या डीफ्रेगलर जैसे थर्ड-पार्टी यूटिलिटी का चयन कर सकते हैं।

3. मैलवेयर और वायरस के लिए स्कैन करें:
मैलवेयर और वायरस आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन पर बहुत असर डाल सकते हैं। प्रमाणित एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके व्यापक स्कैन चलाएं ताकि किसी भी खतरनाक प्रोग्राम की पहचान करें और हटाएं जो आपके सिस्टम को धीमा बना सकते हैं। अपने एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर को नवीनतम बनाएं और नियमित रूप से स्कैन करें ताकि आपका कंप्यूटर सुरक्षित रहे।

4. स्टार्टअप प्रोग्राम्स को डिसेबल करें:
कई एप्लिकेशन स्वचालित रूप से स्टार्टअप में लॉन्च होती हैं, जो मूल्यवान सिस्टम संसाधन का उपयोग करती हैं। इनमें से कुछ प्रोग्राम आपके रोजमर्रा के कार्यों के लिए आवश्यक नहीं हो सकते हैं। कंप्यूटर के संसाधनों पर दबाव को कम करने के लिए अनावश्यक स्टार्टअप प्रोग्राम्स को अक्षम करें। विंडोज़ पर, आप टास्क मैनेजर का उपयोग करके सकंप्यूटर को ठीक करने के और तरीकों की बात जारी रखते हैं:

5. सॉफ़्टवेयर और ड्राइवर्स को अपडेट करें:
पुराने सॉफ़्टवेयर और ड्राइवर्स संगतता मुद्दों का कारण बन सकते हैं और आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। अपने ऑपरेटिंग सिस्टम, एप्लिकेशन और डिवाइस ड्राइवर्स को अद्यतन करें। अगर संभव हो, तो स्वचालित अपडेट्स को सक्षम करें, या नियमित रूप से अपडेट की जांच करें। इससे आपको नवीनतम सुविधाओं, बग फ़िक्स और अनुकूलन मिलेगा।

6. अपने कंप्यूटर की RAM बढ़ाएं :
कम रैंडम एक्सेस मेमोरी (रैम) का अभाव स्लो प्रदर्शन का कारण बन सकता है, खासकर जब आप मेमोरी-प्रभावी एप्लिकेशन्स चला रहे हों। अगर आपके कंप्यूटर के मेमोरी अक्सर समाप्त हो जाती है या बहुमुखी कार्य करते समय सुस्त हो जाता है, तो आपको अपनी रैम को अपग्रेड करना चाहिए। अपने कंप्यूटर की विशेषताओं की जांच करें और संगत रैम मॉआपके कंप्यूटर को ठीक करने के और तरीकों की बात जारी रखते हैं:

7. एक सॉलिड-स्टेट ड्राइव (SSD) पर अपग्रेड करें:
पारंपरिक हार्ड डिस्क ड्राइव (HDD) को एक सॉलिड-स्टेट ड्राइव (SSD) से बदलने से आपके कंप्यूटर की गति में सुधार हो सकता है। SSD तेज़ डेटा एक्सेस, तेज़ बूट टाइम और संपूर्ण प्रदर्शन में सुधार प्रदान करते हैं। अपने ऑपरेटिंग सिस्टम और आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले प्रोग्राम्स को SSD पर स्थानांतरित करने से आपको गणनीय प्रदर्शन में सुधार दिख सकता है।

8. ओवरहीटिंग के लिए जांच करें:
अधिकतम गर्मी कंप्यूटर को धीमा कर सकती है या यह नुकसान से बचाने के लिए बंद हो जाता है। यह सुनिश्चित करें कि आपके कंप्यूटर की कूलिंग सिस्टम सही तरीके से काम कर रही है। पंखे और वेंट्स में से किसी भी धूल को साफ़ करें और बेहतर हवा प्रवाह के लिए कूलिंग पैड या बाहरी पंखे का उपयोग करें। यदि आवश्यक हो, तो CPU पर नया थर्मल पेस्ट लगाकर गर्मी प्रसारण को सुधारें।

9. एक नया ऑपरेटिंग सिस्टम स्थापित करें:
अगर सभी उपायों के बावजूद आपका कंप्यूटर अब भी धीमा है, तो अपने ऑपरेटिंग सिस्टम को साफ करने के लिए नए इंस्टॉलेशन का विचार करें। अपनी महत्वपूर्ण फ़ाइलों का बैकअप बना लें और ऑपरेटिंग सिस्टम को पुनः स्थापित करें ताकि किसी भी एकत्रित सिस्टम क्लटर या सॉफ़्टवेयर संबंधित मुद्दा को दूर करें।

इन सुझावों को लागू करके आप अपने कंप्यूटर की गति और प्रदर्शन को सुधार सकते हैं। ध्यान दें कि आप नियमित रूप से अपने कंप्यूटर की देखभाल करते रहें, इसे अपडेट रखें, मैलवेयर के लिए स्कैन करें और उसके स्टोरेज को अनुकूलित करें। थोड़ी सी मेहनत के साथ, आप एक तेज़ और अधिक दक्ष कंप्यूटिंग अनुभव का आनंद ले सकते हैं।

कंप्यूटर वायरस से अपने कंप्यूटर की सुरक्षा कैसे करें

कंप्यूटर वायरस और मैलवेयर सिस्टम पर बड़ा नुकसान पहुंचा सकते हैं, आपकी निजी जानकारी को खतरे में डाल सकते हैं और आपके डिजिटल जीवन को व्यवधान कर सकते हैं। इन खतरों से अपने कंप्यूटर की सुरक्षा करने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि आप सर्वश्रेष्ठ अभ्यास का पालन करें और प्रभावी सुरक्षा उपाय अमल में लाएं। यहां कुछ टिप्स हैं जो कंप्यूटर को वायरस से सुरक्षित रखने में मदद कर सकते हैं:

1. विश्वसनीय एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर का उपयोग करें:
विश्वसनीय प्रदाता से एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर को इंस्टॉल करें और इसे अपडेट करते रहें। नवीनतम वायरस परिभाषाओं और सुरक्षा पैचों के लिए स्वचालित अद्यतन को सक्षम करें। नियमित रूप से वायरसों के लिए अपनी सिस्टम स्कैन करें और ऑटो अपडेट को ऑन कर दें |

2. अपने ऑपरेटिंग सिस्टम को अपडेट रखें :
नवीनतम सुरक्षा पैचों और सॉफ़्टवेयर अपडेट के साथ अपने ऑपरेटिंग सिस्टम (ओएस) को नियमित रूप से अपडेट करें। ऑपरेटिंग सिस्टम अपडेट में आमतौर पर सुरक्षा सुधार शामिल होते हैं जो कि संक्रमण को उत्पन्न करने के लिए जरूरी होते हैं। स्वचालित अद्यतन को सक्षम करें या नियमित रूप से अपडेट के लिए मैन्युअल जांचें।

3. सॉफ़्टवेयर डाउनलोड और इनस्टॉल करते  समय सतर्क रहें:
केवल विश्वसनीय स्रोतों और आधिकारिक वेबसाइटों से सॉफ़्टवेयर डाउनलोड करें। अनजाने या संदिग्ध स्रोतों से डाउनलोड करने पर सतर्क रहें, क्योंकि वे संक्रमित फ़ाइलें शामिल हो सकती हैं। सॉफ़्टवेयर की प्रामाणिकता और प्रतिष्ठा को सत्यापित करें इसे स्थापित करने से पहले। इसके अलावा, स्थापना प्रक्रिया के दौरान सतर्क रहें और संक्रमित हो सकने वाले सॉफ़्टवेयर या एडवेयर को स्वीकारने से बचें।

4. ईमेल अटैचमेंट और लिंक के साथ सतर्क रहें:
विशेष रूप से अज्ञात या संदिग्ध स्रोतों से ईमेल अटैचमेंट खोलने या लिंक पर क्लिक करने के समय सतर्क रहें। वायरस फैलाने के लिए हमलावरों द्वारा खोखले अटैचमेंट और फिशिंग लिंक आमतौर पर उपयोग किए जाते हैं। सुरक्षित होने की पुष्टि न होने पर अटैचमेंट डाउनलोड करने या लिंक पर क्लिक करने से बचें। ईमेल संदेशों से सतर्क रहें जो संदिग्ध लगते हैं या संवेदनशील जानकारी की मांग करते हैं।

5. फ़ायरवॉल सुरक्षा एनेबल करें:
अपने कंप्यूटर की फ़ायरवॉल को सक्षम करें। फ़ायरवॉल कंप्यूटर और इंटरनेट के बीच एक बैरियर की तरह कार्य करता है, जो नेटवर्क ट्रैफ़िक का मॉनिटरिंग और नियंत्रण करता है। वह अनधिकृत पहुंच और संभवतः हानिकारक कनेक्शन को ब्लॉक करके एक अतिरिक्त सुरक्षा स्तर प्रदान करता है। आपकी फ़ायरवॉल सेटिंग्स को अद्यतित रखें ताकि आपकी सुरक्षा में सर्वोत्तम रहें।

6. स्ट्रांग और यूनिक पासवर्ड का उपयोग करें:
अपने कंप्यूटर और ऑनलाइन खातों की सुरक्षा बढ़ाने के लिए मजबूत, अद्वितीय पासवर्ड का उपयोग करें। आसानी से पहचानने योग्य पासवर्ड या पासवर्ड को कई खातों पर दोबारा उपयोग न करें। विभिन्न ऑनलाइन खातों के लिए मजबूत पासवर्ड जेनरेट करने और सुरक्षित रूप से स्टोर करने के लिए पासवर्ड मैनेजर का उपयोग करने का विचार करें।

7. नियमित रूप से अपना डेटा बैकअप करें:
अपनी महत्वपूर्ण फ़ाइलों और डेटा का नियमित रूप से बैकअप बनाएं और एक बाहरी हार्ड ड्राइव, क्लाउड स्टोरेज या दूसरे सुरक्षित स्थान पर सहेजें। वायरस संक्रमण या अन्य अप्रत्याशित परिस्थितियों की स्थिति में, बैकअप्स आपके डेटा को पुनर्स्थापित करने और हमले के प्रभाव को कम करने में मदद करती हैं।

8. जागरूक रहें और सामाजिक इंजीनियरिंग से सतर्क रहें:
हमलावरों द्वारा उपयोग किए जाने वाले नवीनतम साइबर सुरक्षा धारणाओं और तकनीकों के बारे में जागरूक रहें। फिशिंग स्कैम जैसी सामाजिक इंजीनियरिंग तकनीकों से सतर्क रहें, जहां हमलावर आपको संवेदनशील जानकारी उजागर करने या संक्रमित फ़ाइलें डाउनलोड करने के लिए धोखा देने की कोशिश करते हैं। अपने आप को शिक्षित करें और अनवरोधित संदेशों या व्यक्तिगत जानकारी के लिए अनुराग रखें।

ये कुछ उपाय हैं जो आपको कंप्यूटर से वायरस की सुरक्षा में मदद करेंगे। इन नियमों का पालन करना अपने कंप्यूटर को सुरक्षित रखने के लिए महत्वपूर्ण है। नियमित रूप से अपने सॉफ़्टवेयर, ऑपरेटिंग सिस्टम, और अपने कंप्यूटर की सुरक्षा की जांच करें और अपडेट करें। यदि आप संदिग्धता के संकेतों का अनुभव करते हैं या संदेशों में अनुपयोगी अथवा आपत्तिजनक सामग्री देखें, तो उन्हें आपत्तिजनक समझें और उचित कार्रवाई के लिए सतर्क रहें।

Read More :-लैपटॉप या पीसी या मैक में स्क्रीनशॉट कैसे लें ?

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *