साइबर सिक्योरिटी क्या है

साइबर सिक्योरिटी क्या है पूरी जानकारी। {2023}

इंटरनेट की दुनिया में साइबर सिक्योरिटी (cyber security) word जरूर सुना होगा ऐसे में सवाल उठता है कि साइबर सिक्योरिटी क्या है साइबर सिक्योरिटी के बारे में जानना हमारे लिए बहुत इंपॉर्टेंट है इंटरनेट पर जो भी क्राइम्स होते हैं इनकी सिक्योरिटी के लिए जो भी टूल्स जो भी तरीके यूज किए जाते हैं इसे साइबर सिक्योरिटी कहते है।

अगर हमें साइबर क्राइम और साइबरसिक्योरिटी दोनों के बारे में विस्तार से जानकारी नहीं है वह बहुत ही आसानी से किसी भी साइबर क्राइम में फंस सकते है जो कि हमारे लिए बहुत ही नुकसानदेह हो सकता है ऐसे में हमें बहुत ही गंभीरता से साइबर सिक्योरिटी के बारे में जानना चाहिए।

सबसे पहले हमें साइबर शब्द का मतलब जानना होगा साइबर शब्द का मतलब इंटरनेट से होता है और सिक्योरिटी का मतलब तो आप सब जानते ही हैं इसका मतलब सुरक्षा होता है हम सभी को हो सकता है इंटरनेट के बारे में बहुत कुछ जानकारी हो पर साइबर सिक्योरिटी के बारे में सिर्फ कुछ प्रतिशत लोगों को ही होती है इसलिए आपको इस पोस्ट के माध्यम से साइबर सिक्योरिटी के बारे में विस्तार से बताने की कोशिश करेंगे।

साइबर सिक्योरिटी क्या है?(what is cyber security in Hindi)

इंटरनेट से जुड़े सभी तरह के सिस्टम जैसे कंप्यूटर मोबाइल वाई-फाई इन सभी को सुरक्षा के लिए जो भी कदम उठाए जाते हैं उन्हें साइबरसिक्योरिटी कहा जाता है इसकी मदद से डिवाइस हार्डवेयर सॉफ्टवेयर और डाटा इनफार्मेशन जैसी इंपॉर्टेंस चीजों को साइबर क्राइम से बचाया जा सकता है।

साइबर सिक्योरिटी के बारे में बहुत ही आसान शब्दों में कुछ ऐसे समझ सकते हैं कि हमारे डिवाइस से जुड़े सभी तरह के प्रोग्राम्स को किसी भी प्रकार के हानिकारक डिजिटल अटैक से बचाया जा सकता है।

साइबरसिक्योरिटी दो शब्दों से मिलकर बना है पहला साइबर दूसरा सिक्योरिटी इसका मतलब इंटरनेट पर उपलब्ध सभी तरह के डाटा इनफार्मेशन और सिस्टम से है जो कि इंटरनेट का उपयोग करते हैं सिक्योरिटी शब्द का मतलब है “सुरक्षा” इसे सरल शब्दों में समझें तो साइबर सिक्योरिटी इंटरनेट के खतरों से बचने के लिए किए गए उपाय हैं।

आप सभी को पता ही होगा कि इंटरनेट पर अक्सर ऑनलाइन फ्रॉड है किंग जैसी कई क्राइम्स होते रहते हैं जिससे सिस्टम यूजर को बहुत भारी नुकसान होता है यह नुकसान किसी भी तरह के इंफॉर्मेशन ग्रुप में भी हो सकती है पर्सनल डाटा के रूप में भी हो सकती है या फाइनेंसियल नुकसान भी हो सकता है इससे बचने के लिए साइबरसिक्योरिटी को बनाया गया है आइए जानते हैं साइबरसिक्योरिटी कितने प्रकार की होती है

साइबर सिक्योरिटी कितने प्रकार के होते हैं ?

जैसा कि ऊपर हमने जाना कि साइबर सिक्योरिटी होता क्या है अब जानते है कि साइबर सिक्योरिटी कितने प्रकार के होते हैं साइबर सिक्योरिटी मुख्य इस प्रकार के हैं :-

एप्लीकेशन सिक्योरिटी (Application Security)

इसके अंतर्गत उन सभी तरह के एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर जिनका इस्तेमाल आप अपने कंप्यूटर या मोबाइल पर इंटरनेट के माध्यम से प्रतिदिन करते हैं इन सभी पर cyber-attack को रोकने के लिए एप्लीकेशन सिक्योरिटी का इस्तेमाल किया जाता है जिससे आपके दैनिक जीवन में इंटरनेट का उपयोग करते समय इन सभी cyber-attack से बचा जा सके ।

नेटवर्क सिक्योरिटी (Network Security)

नेटवर्क सिक्योरिटी से ताल्लुक है हमारे इंटरनेट कनेक्शन का बहुत ही ऑर्गनाइजेशन और कंपनियां ऐसे हैं जो कंप्यूटर से मोबाइल के लिए इंटरनेट वायरलेस तरीके से उपलब्ध कराती हैं ऐसे में नेटवर्क हैकिंग एवं साइबर क्राइम से बचने के लिए नेटवर्क सिक्योरिटी का यूज़ किया जाता है इस सिस्टम में मौजूद डाटा और इंफॉर्मेशन को गलत तरीके से एक्सेस करने से बचाया जा सकता है

क्लाउड सिक्योरिटी (Cloud Security)

क्लाउड सिक्योरिटी से मतलब होता है क्लाउड स्टोरेज से जहां पर आपकी बहुत सी फाइलें इंफॉर्मेशन डाक्यूमेंट्स से होती है जैसे गूगल ड्राइव भी एक क्लाउड स्टोरेज की तरह ही यूज़ होता है इन सभी को साइबर अटैक से बचाने के लिए जो सिक्योरिटी दी जाती है उसे क्लाउड सिक्योरिटी कहते हैं यह बहुत बड़ी कंपनियां और ऑर्गेनाइजेशन जो हमारे डाटा को स्टोर करके रखती हैं उन्हें क्लाउड सिक्योरिटी उपयोग करने की आवश्यकता होती है।

Iot security (internet-of-things security)

आईआईटी का फुल फॉर्म internet-of-things होता है इसका यूज सेंसर सॉफ्टवेयर और टेक्नोलॉजी की मदद से डाटा को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में ट्रांसफर करने के लिए किया जाता है

मोबाइल सिक्योरिटी (Mobile Security)

आज के समय में विश्व भर में हर कोई मोबाइल का इस्तेमाल करता है ऐसे में हमारे मोबाइल में अवेलेबल पर्सनल डाटा इनफार्मेशन फोटो वीडियोस इन सभी को साइबर अटैक से बचाना बेहद जरूरी है इन सभी इंफॉर्मेशन और डेटा को बचाने के लिए जिस सिक्योरिटी का इस्तेमाल किया जाता है उसे मोबाइल सिक्योरिटी के आता है यह कई भागों में डिवाइडेड होता है

साइबर सिक्योरिटी क्यों आवश्यक है

आज से कुछ सालों पहले इंटरनेट का इस्तेमाल इतना नहीं होता था और ना ही इंटरनेट का इतना विकास हुआ था जैसा कि आप सब जानते हैं कि आज के टाइम पर हर किसी के पास मोबाइल कंप्यूटर की सुविधा उपलब्ध है और जाहिर सी बात है उसमें इंटरनेट का यूज तो होता ही है

ऐसे में साइबर अटैक से बचना बहुत ही आवश्यक है इंटरनेट के माध्यम से हम बहुत से अपने दैनिक जीवन के कार्य करते हैं जैसे ऑनलाइन इंटरनेट के माध्यम से पैसे की लेनदेन करना इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन फॉर्म फिल अप करना इसमें अपनी पर्सनल इंफॉर्मेशन भरना कई बार तो हमें क्रेडिट कार्ड और एटीएम कार्ड की डिटेल भी भरने पड़ जाते हैं सोशल मीडिया पर अपने पर्सनल फोटो को शेयर करना इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन कई इंपोर्टेंट डाटा का ट्रांसफर करना इन सभी कार्यों को करते समय किसी प्रकार की हानि होने से बचने के लिए हमें साइबरसिक्योरिटी की बहुत आवश्यकता होती है। इनमें से कुछ मुख्य कारण इस प्रकार है

कंप्यूटर को सुरक्षित रखने के लिए

आज के समय में कंप्यूटर की कितनी इंपॉर्टेंस है आप सभी को पता ही है ऐसे में सभी तरह के ऑनलाइन डिजिटल काम करने के लिए हमें कंप्यूटर की जरूरत पड़ती है। ऐसे में कंप्यूटर को फेंका से बचाने के लिए एवं ट्रांजैक्शन में किसी भी तरह की फ्रॉड से बचने के लिए साइबर सिक्योरिटी बहुत ही आवश्यक है

Hackers से बचने के लिए

जैसा की आप सभी को पता ही होगा कि आज के समय में हैकर्स कितने एडवांस लेबल के हो चुके हैं जो कुछ ही समय में हमारे फोन कंप्यूटर एवं हमारे टाटा को बहुत बुरी तरीके से नुकसान पहुंचा सकते इसलिए इन सभी से बचने के लिए साइबर सिक्योरिटी बहुत जरूरी होता है

साइबर क्राइम में रोकथाम

इंटरनेट की दुनिया में आज के समय में हर रोज साइबरक्राइम बढ़ता ही जा रहा है बड़े-बड़े ऑर्गेनाइजेशन और आम जनता को भी बहुत नुकसान होता है ऐसे में साइबर क्राइम में रोकथाम के लिए साइबर सिक्योरिटी बहुत ही जरूरी है

इन्हे भी पढ़ें :-

Cyber Security के फायदे in Hindi

इंटरनेट की दुनिया में हो रहे फ्रॉड और स्कैम से बचने के लिए साइबरसिक्योरिटी बहुत ही जरूरी है इसके कई फायदे भी हैं जो इस प्रकार है :-

  • अगर हम साइबरसिक्योरिटी से जागरूक हैं तो रोज बतियाते काम जैसे ऑनलाइन ट्रांजैक्शन इंटरनेट बैंकिंग और भी ऐसे कई काम जिसे हम सुरक्षित तरीके से साइबरसिक्योरिटी की मदद से कर सकते हैं
  • आज के समय में इंटरनेट का इस्तेमाल तो सभी कोई करता है पर इसे सुरक्षित तरीके से इस्तेमाल करना और इंटरनेट पर हो रहे साइबर अटैक से बचना साइबर सिक्योरिटी के वजह से ही संभव है
  • साइबर सिक्योरिटी की मदद से हम अपनी पर्सनल फोटो वीडियोस और भी ऐसे इंपॉर्टेंस डटा जो किसी भी सोशल मीडिया जैसे फेसबुक इंस्टाग्राम टि्वटर यूट्यूब इत्यादि पर बिना किसी डर के हम शेयर कर सकते हैं
  • साइबर सिक्योरिटी के कारण ही साइबर क्राइम को कम किया जा सकता है और इसकी वजह से होने वाले खतरनाक Cyber Attacks से बच सकते हैं।
  • साइबरसिक्योरिटी एक हाई डिमांडिंग स्किल है अगर आपके पास कैपेबिलिटी और एक्सपीरियंस है तो बहुत ही आसानी से प्लेसमेंट भी मिल सकता है।

साइबर सिक्योरिटी के कोर्स कैसे करे?

साइबर सिक्योरिटी कोर्स करने की वजह से कई तरीके हैं पर आप मुक्ता दो तरीकों से इस कोर्स को आसानी से कर सकते हैं पहला ऑनलाइन दूसरा ऑफलाइन ।

ऑनलाइन साइबर सिक्योरिटी कोर्स करने के लिए बहुत से प्लेटफार्म उपलब्ध हैं जैसे Udemy, Simplilearn, Coursera इन सभी एजुकेशन प्लेटफार्म से साइबरसिक्योरिटी का कोर्स ऑनलाइन किया जा सकता है। ऑफलाइन कोर्स करने के लिए भी बहुत से इंस्टिट्यट है जहां से आप बी टेक साइबर सिक्योरिटी, बीएससी साइबर सिक्योरिटी, बैचलर ऑफ साइबर सिक्योरिटी जैसे कोर्स आसानी से कर सकते हैं।

साइबर सिक्योरिटी में कौन कौन से पोस्ट होते हैं ?

साइबर सिक्योरिटी डिपार्टमेंट में वैसे तो बहुत से पोस्ट होते हैं जिनमें से कुछ मुख्य पोस्ट इस प्रकार हैं

  • Chief cyber security officer
  • Computer crime investigator
  • Cryptographer network security engineer
  • Security architect
  • Source code auditor
  • Security consultant
  • Security analyst

FAQ’s (अक्सर पूछे जाने वाले सवाल)

साइबर सिक्योरिटी का क्या मतलब है?

साइबर सिक्योरिटी से तात्यपर्य इंटरनेट से जुड़े सिस्टम जैसे कंप्यूटर मोबाइल लैपटॉप वाईफाई आदि के लिए एक सुरक्षा या सिक्योरिटी है।

साइबर क्राइम क्या है कितने प्रकार के होते हैं?

साइबर सिक्योरिटी से तात्यपर्य इंटरनेट से जुड़े सिस्टम जैसे कंप्यूटर मोबाइल लैपटॉप वाईफाई आदि के लिए एक सुरक्षा या सिक्योरिटी है। यह मुख्यतः पांच प्रकार के होते हैं

साइबर सुरक्षा की विशेषताएं क्या हैं?

साइबरसिक्योरिटी की वजह से हम इन्टरनेट की दुनियां में होने वाले किसी फ्रॉड या नुकसान से बच सकते हैं।

साइबर कानून कब बना?

सन 2008 में।

सबसे ज्यादा साइबर अपराध कहाँ होते हैं?

उत्तरी अमेरिका, एशिया-प्रशांत और यूरोप इंडिया सुने साइबर क्राइम का आंकड़ा सबसे ज्यादा है।

साइबर क्राइम में कौन सी धारा लगती है?

साइबर क्राइम में अलग-अलग क्राइम के अनुसार इन धाराओं को लगाया जाता है धारा 43, 65, 66 और 67 के तहत केस चलते हैं. IPC की धारा 420, 120बी और 406 के तहत भी केस चल सकता है.

भारत में सबसे बड़ा साइबर क्राइम कौन सा है?

भारत में सबसे बड़ा साइबर क्राइम जामताड़ा में हो रहे पैसों की ठगी है।

सबसे आम साइबर क्राइम क्या है?

साइबर क्राइम की दुनिया में हैकिंग को सबसे आम साइबरक्राइम माना जाता है इसके जरिए किसी भी डिवाइस से बिना किसी के अनुमति के कोई भी डाटा या पर्सनल इंफॉर्मेशन चुराई जा सकती है।

प्रति दिन कितने साइबर हमले?

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के अनुसार भारत में प्रतिदिन लगभग 136 cyber-attack होते हैं।

Q 7 साइबर अपराध क्या है?

जब कोई भी साइबर क्रिमिनल किसी भी एक कंप्यूटर के ऊपर या पूरे कंप्यूटर नेटवर्क के ऊपर डिजिटल अटैक करता है तो उसको Q 7 साइबर अपराध कहते हैं.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *