E-RUPI क्या है E-RUPI APP डाउनलोड कैसे करे ?

E-RUPI क्या है E-RUPI APP डाउनलोड कैसे करे ?

भारत में covid के बाद अर्थव्यवस्था में बहुत से बदलाव हुए हैं जैसे कि डिजिटल करेंसी का चालू होना यूपीआई के द्वारा पेमेंट करना ऐसी कई सर्विस है चालू हुई है ऐसे में भारत सरकार ने E-RUPI को लांच किया है इस पोस्ट के माध्यम से हम जानेंगे कि E-RUPI क्या है और E-RUPI ऐप कैसे डाउनलोड करते हैं और उसका उपयोग कैसे करते हैं।

E-RUPI क्या है?

E-RUPI एक डिजिटल वाउचर है जो भारत सरकार द्वारा जारी किया जाता है। यह एक यूनीक QR कोड या SMS के साथ एक डिजिटल वाउचर है E-RUPI का उपयोग सरकार, निजी संगठन, या कोई भी व्यक्ति कर सकता है।

ई-रुपी भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा जारी एक डिजिटल करेंसी है। यह एक इलेक्ट्रॉनिक रूप में मुद्रा है जिसे मोबाइल फोन पर स्टोर किया जा सकता है। ई-रुपी का उपयोग व्यक्ति से व्यक्ति (P2P) या व्यक्ति से व्यापारी (P2M) लेनदेन के लिए किया जा सकता है।

E-RUPI APP डाउनलोड कैसे करे

E-RUPI APP डाउनलोड करने के लिए इन स्टेप्स को फॉलो करें

E-RUPI APP डाउनलोड करने के लिए, आपको अपने स्मार्टफोन पर Google Play Store या App Store पर जाना होगा। “E-RUPI” खोजें और एप्लिकेशन इंस्टॉल करें। एप्लिकेशन खोलें और अपने मोबाइल नंबर और आधार नंबर का उपयोग करके साइन अप करें। एक बार जब आप साइन अप कर लेते हैं, तो आप वाउचर प्राप्त कर सकते हैं और उनका उपयोग भुगतान करने के लिए कर सकते हैं।

1. अपने स्मार्टफोन पर Google Play Store या App Store पर जाएं।

2. “E-RUPI” खोजें।

3. एप्लिकेशन इंस्टॉल करें।

4. एप्लिकेशन खोलें।

5. अपने मोबाइल नंबर और आधार नंबर का उपयोग करके साइन अप करें।

6. वाउचर प्राप्त करें और उनका उपयोग भुगतान करने के लिए करें।

E-RUPI के लाभ क्या हैं?

  • यह एक सुरक्षित और सुरक्षित भुगतान विधि है।
  • यह बिना इंटरनेट के भी उपयोग किया जा सकता है।
  • यह लेनदेन की लागत को कम कर सकता है।
  • यह नकदी की आवश्यकता को कम कर सकता है।

ई-रुपी का उपयोग कहां किया जा सकता है

  • सरकारी सब्सिडी और लाभों के वितरण के लिए
  • सरकारी योजनाओं के लिए भुगतान करने के लिए
  • शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और अन्य सेवाओं के लिए भुगतान करने के लिए
  • रोजमर्रा की जिंदगी में किसी भी समान को खरीदने के लिए
  • ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से लेनदेन करने के लिए

ई-रुपी का उपयोग करने के लिए, उपयोगकर्ता को पहले एक बैंक या वित्तीय संस्थान से एक ई-रुपी वॉलेट बनाना होगा। एक बार वॉलेट बन जाने के बाद, उपयोगकर्ता इसे रिचार्ज कर सकता है और इसका उपयोग लेनदेन करने के लिए कर सकता है।

E-RUPI का उपयोग क्यों किया जाता है  ?

  • यह एक सुरक्षित और विश्वसनीय भुगतान विधि है।
  • यह उपयोग करने में आसान है।
  • यह बिना इंटरनेट के भी उपयोग किया जा सकता है।
  • यह कहीं भी और किसी भी समय उपयोग किया जा सकता है।
  •  यह भौतिक धन की आवश्यकता को समाप्त करता है।

E-RUPI भारत में डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए एक महत्वपूर्ण पहल है। यह एक सुरक्षित, विश्वसनीय और सुविधाजनक भुगतान विधि प्रदान करता है जिसका उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। डिजिटल करेंसी शुरू होने के बाद पैसों को लेने में बहुत आसान तरीके से किया जा सकता है इसमें कैशलेस तरीके से पैसों का लेनदेन किया जाएगा यह एक बहुत अच्छा ऑप्शन है कि अब आपको कैश कैरी करने की बहुत ही कम जरूरत पड़ेगी E-RUPI का उपयोग करने का सबसे बड़ा उद्देश्य यही है कुछ अन्य देश भी है जिनमें से कुछ मुख्य उद्वेश्य इस प्रकार हैं:-

  • सरकारी लाभों के वितरण के लिए
  • सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के लिए
  •  स्वास्थ्य सेवा के लिए
  •  शिक्षा के लिए
  • अन्य उद्देश्यों के लिए

निष्कर्ष

आशा करते हैं इस पोस्ट के माध्यम से आपको E-RUPI के बारे में सारी जानकारी मिल चुकी होगी कि E-RUPI क्या है इसे डाउनलोड कैसे करते हैं और इसका क्या उपयोग है और इसे बढ़ावा क्यों दिया जाता है यह सारी जानकारी आपको इस पोस्ट के माध्यम से सटीक तरीके से मिल चुकी होगी। ऐसे और भी इंटरेस्टिंग पोस्ट पढ़ने के लिए नोटिफिकेशन एक्सेप्ट करें और यदि आपके पास कोई सुझाव है या कोई टॉपिक है जिसके बारे में आप पढ़ना चाहते हैं प्लीज कमेंट जरुर करें।

Read more:-

FAQ

e-rupi लॉन्च कब हुआ ?

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने सोमवार 2 अगस्त 2021 को e-RUPI को लॉन्च किया।

E Rupi का full form क्या होता है

electronic rupee (e-Rupee)

भारत की डिजिटल करेंसी का नाम क्या है?

CBDC- सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी

डिजिटल करेंसी कितने प्रकार की है?

दो पार्ट में बांटा है.
1. पहले CBDC-R
2. CBDC-W

कौन सा बैंक भारत में डिजिटल रुपए पेश करेगा?

भारतीय स्टेट बैंक

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *