Email kya hai

Email kya hai ? पूरी जानकारी हिंदी में |

Email kya hai : Email एक डिजिटल कम्युनिकेशन मेथड है जिसका इस्तेमाल टेक्स्ट   documents, images  और फाइल्स को इंटरनेट के थ्रू दूसरे लोगों तक भेजने और रिसीव करने के लिए होता है. यह कुछ इम्पोर्टेन्ट कंपोनेंट्स और डिटेल्स प्रोवाइड करता है  ईमेल के जरुरी भाग इस प्रकार हैं :

Email kya hai ? (What is Email)

ईमेल एड्रेस: यह एक यूनिक आइडेंटिफायर होता है जिसे आप इस्तेमाल करते हैं ईमेल सेंड करने और रिसीव करने के लिए. ईमेल एड्रेस एक कॉम्बिनेशन होता है लोकल पार्ट ( username) और डोमेन पार्ट  (example.com)  का. जैसे की “username@example.com.”

ईमेल क्लाइंट: ईमेल सेंड और रिसीव करने के लिए आप एक ईमेल क्लाइंट का इस्तेमाल करते हैं. पॉपुलर ईमेल क्लाइंट्स जैसे की- Gmail, Outlook, Yahoo Mail, Thunderbird, etc. आप इन क्लाइंट्स को वेब ब्राउज़र या डेस्कटॉप/मोबाइल ऍप्लिकेशन्स के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं.

ईमेल सर्वर: ईमेल सर्वर्स ईमेल को इंटरनेट के थ्रू सेंड और रिसीव करने में मदद करते हैं. जब आप एक ईमेल भेजते हैं वह आपके ईमेल क्लाइंट से सर्वर तक पहुँचता है और फिर उससे रेसिपिएंट के ईमेल सर्वर तक पहुँचाया जाता है. इसी तरह से ईमेल रिसीव करने पर भी ईमेल सर्वर का इस्तेमाल होता है.

Subject लाइन: हर ईमेल का एक सब्जेक्ट लाइन होता है जो ईमेल के मुख्य कंटेंट को summarize करता है. सब्जेक्ट लाइन के थ्रू रेसिपिएंट को ईमेल का main टॉपिक पता चलता है.

बॉडी: ईमेल का main कंटेंट बॉडी में होता है जहाँ आप टेक्स्ट इमेजेज डाक्यूमेंट्स या लिंक्स शेयर कर सकते हैं. आप ईमेल बॉडी में लिखते हैं जो मैसेज आप convey करना चाहते हैं.

Attachments : आप ईमेल के साथ फाइल्स और डाक्यूमेंट्स भी Attachments कर सकते हैं जिससे रेसिपिएंट डाउनलोड कर सकता है.

CC (Carbon Copy) aur BCC (Blind Carbon Copy): आप ईमेल को मल्टीप्ल रेसपिएंट्स को सेंड कर सकते हैं. CC में रेसपिएंट्स को दिखाई देता है की किस-किस को ईमेल सेंड किया गया है जबकि BCC में रेसपिएंट्स को दिखाई नहीं देता है. BCC का इस्तेमाल प्राइवेसी और कॉन्फिडेंटिअलिटी के लिए होता है.

Signature : आप अपने ईमेल में एक सिग्नेचर ऐड कर सकते हैं जो आपके कांटेक्ट इनफार्मेशन कंपनी डिटेल्स या कुछ और इनफार्मेशन को आटोमेटिक तरीके से ईमेल के नीचे इन्क्लुडे करता है.

ईमेल एक फ्लेक्सिबल और widespread कम्युनिकेशन मेथड है जो पर्सनल और प्रोफेशनल use के लिए इस्तेमाल होता है. आप ईमेल के थ्रू किसी भी जगह किसी भी समय messages send कर सकते हैं और ईमेल सर्वर्स के माध्यम से यह messages सेक्युरेली ट्रांसफर होते हैं.

ईमेल की शुरुआत कब हुई थी

ईमेल की शुरुआत 1971 में हुई थी जब Ray Tomlinson एक अमेरिकन कंप्यूटर इंजीनियर ने पहला इलेक्ट्रॉनिक मेल (ईमेल) भेजा. उसने “@” सिंबल का इस्तेमाल किया जिसे आज भी ईमेल addresses में use किया जाता है (जैसे username@example.com). ईमेल का ये पहला वर्शन ARPANET एक early form of the internet पर devlop  हुआ था. इससे पहले भी कुछ सिमिलर इलेक्ट्रॉनिक messaging सिस्टम्स थे लेकिन रे टॉमलिंसन की ईमेल सिस्टम ने ईमेल को widespread और प्रैक्टिकल बनाया. उसके बाद ईमेल टेक्नोलॉजी में और भी सुधर होते रहे और ईमेल आज भी एक महत्वपूर्ण डिजिटल कम्युनिकेशन मेथड है.

ईमेल कितने प्रकार के होतें हैं

ईमेल के कई प्रकार होते हैं जिनके अंदर अलग-अलग फीचर्स और purposes होते हैं. यहाँ कुछ प्रमुख ईमेल टाइप्स हैं:

पर्सनल Email

ये ईमेल addresses अक्सर individuals अपने पर्सनल कम्युनिकेशन के लिए इस्तेमाल करते हैं. इनमे फॅमिली फ्रेंड्स और पर्सनल कॉन्टेक्ट्स के साथ बात-चीत होती है.

प्रोफेशनल ईमेल

प्रोफेशनल ईमेल addresses, Organizations या प्रोफेशनल्स अपने ऑफिसियल कम्युनिकेशन के लिए इस्तेमाल करते हैं. ये addresses typically कंपनी के डोमेन से जुड़ते हैं (जैसे employee@company.com) और बिज़नेस-रिलेटेड messages के लिए इस्तेमाल होते हैं.

Transactional Email

ये ईमेल ऑटोमेटेड होती हैं और किसी ट्रांसक्शन या एक्शन के रिस्पांस में भेजी जाती हैं. Examples – आर्डर कन्फर्मेशन्स पासवर्ड रिसेट नोटिफिकेशन्स और सब्सक्रिप्शन कन्फर्मेशन्स.

मार्केटिंग ईमेल

कम्पनीज और organizations मार्केटिंग ईमेल का इस्तेमाल अपने प्रोडक्ट्स या सर्विसेज के प्रमोशन और कस्टमर इंगेजमेंट के लिए करते हैं. यह इमेल्स newsletters प्रमोशनल ऑफर्स और इवेंट invitations के रूप में आते हैं.

Spam ईमेल

स्पैम इमेल्स अनवांटेड होती हैं और अक्सर unsolicited advertisements या फिशिंग attempts को रिप्रेजेंट करते हैं. इनका उद्देश्य usually users को manipulate करना होता है या उनसे पर्सनल इनफार्मेशन चुराना.

सोशल मीडिया नोटिफिकेशन्स

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स भी ईमेल का इस्तेमाल नोटिफिकेशन्स भेजने के लिए करते हैं जैसे की फ्रेंड रिक्वेस्ट्स कमैंट्स और updates.

सब्सक्रिप्शन ईमेल

Users अपने इंटरेस्ट के हिसाब से किसी वेबसाइट ब्लॉग या सर्विस के updates के लिए सब्सक्राइब कर सकते हैं. यह इमेल्स रेगुलर बेसिस पर कंटेंट updates प्रोवाइड करते हैं.

फ़ॉर्वर्डेड ईमेल

उसेर्स किसी दूसरे ईमेल को फॉरवर्ड कर सकते हैं जिससे वह मैसेज और रेसपिएंट्स के साथ शेयर कर सकते हैं.हर प्रकार के ईमेल का अपना स्पेसिफिक use और फंक्शनलिटी होता है और लोग इनका इस्तेमाल अपने कम्युनिकेशन नीड्स के हिसाब से करते हैं.

ईमेल के जरिये क्या क्या भेज सकते है

आप ईमेल के जरिये कई तरह की चीज़ें भेज सकते हैं:

Text Messages

आप ईमेल के ज़रिये सिंपल Text Messages भेज सकते हैं. यह किसी भी प्रकार के लिखित सन्देश चिट्ठी या समाचार को इन्क्लुडे कर सकता है.

अटैचमेंट्स

आप ईमेल के साथ फाइल्स और डाक्यूमेंट्स अटैचमेंट्स कर सकते हैं जैसे की डाक्यूमेंट्स (वर्ड पीडीऍफ़) इमेजेज वीडियोस स्प्रेडशीट्स और अन्य इलेक्ट्रॉनिक फाइल्स.

लिंक्स

आप URLs (Uniform Resource Locators)  को ईमेल में इन्क्लुडे करके दूसरे वेब पेजेज या websites के लिंक्स शेयर कर सकते हैं.

HTML कंटेंट

प्रोफेशनल इमेल्स अक्सर HTML फॉर्मेट में होते हैं जिससे रिच formatting और ग्राफ़िक्स ऐड की जा सकती है.

सिग्नेचर

आप अपने ईमेल के नीचे एक सिग्नेचर ऐड कर सकते हैं जो आपके कांटेक्ट इनफार्मेशन कंपनी डिटेल्स या पर्सनल मैसेज को शामिल करता है.

Emoticons और इमोजी

आप ईमेल में Emoticons और इमोजी का इस्तेमाल करके अपने इमोशंस और एक्सप्रेशंस को convey कर सकते हैं.

कैलेंडर Invitations

आप ईमेल के ज़रिये कैलेंडर Invitations भेज सकते हैं जिससे आप किसी मीटिंग अपॉइंटमेंट या इवेंट को schedule कर सकते हैं.

फ़ॉर्वर्डेड इमेल्स

आप किसी ईमेल को फॉरवर्ड कर सकते हैं जिससे आप उस मैसेज को दूसरे लोगों तक भेज सकते हैं.

डिजिटल सिग्नेचर्स

सिक्योर इमेल्स में डिजिटल सिग्नेचर्स का इस्तेमाल किया जाता है जो सेन्डर की ऑथेंटिसिटी और मैसेज इंटीग्रिटी को वेरीफाई करता है.

Encrypted Messages

सेंसिटिव इनफार्मेशन को प्रोटेक्ट करने के लिए आप ईमेल Encrypted का इस्तेमाल करके Messages को सिक्योर तरीके से भेज सकते हैं.

ईमेल में कितने साइज की फाइल भेज सकते हैं ?

ईमेल एक वर्सटाइल कम्युनिकेशन मध्यम है और आप इसका इस्तेमाल किसी भी तरह की इनफार्मेशन एक्सचेंज के लिए कर सकते हैं चाहे वह पर्सनल हो या प्रोफेशनल.ईमेल सर्विस प्रोवाइडर्स की टर्म्स एंड कंडीशंस के अनुसार फाइल साइज लिमिट अलग-अलग हो सकती है. लेकिन आम तौर पर एक ईमेल के अटैचमेंट की फाइल साइज लिमिट १० मब से २५ मब तक होती है.

फाइल साइज बड़ी हो तो कैसे भेजें

यदि आप बड़ी फाइल्स को ईमेल के ज़रिये भेजना चाहते हैं और फाइल साइज लिमिट से अधिक है तो आपको कुछ अल्टरनेटिव्ज कंसीडर कर सकते हैं:

फाइल शेयरिंग सर्विसेज

आप ऑनलाइन फाइल शेयरिंग सर्विसेज जैसे की Google Drive, Dropbox, OneDrive, ya WeTransfer का इस्तेमाल करके बड़ी फाइल्स को अपलोड करके शेयर कर सकते हैं. फिर आप अपने ईमेल में उन फाइल्स के डाउनलोड लिंक्स इन्क्लुडे कर सकते हैं.

फाइल कम्प्रेशन

अगर आपकी फाइल साइज लिमिट से थोड़ी बड़ी है तो आप फाइल कम्प्रेशन सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके फाइल साइज को कम करके ईमेल के अटैचमेंट के रूप में भेज सकते हैं. ज़िप फाइल्स अक्सर इसके लिए इस्तेमाल होती हैं.

FTP (File Transfer Protocol)

For Very larg फाइल्स, आप FTP का इस्तेमाल करके फाइल्स को ट्रांसफर कर सकते हैं. FTP एक सिक्योर तरीके से लार्ज फाइल्स को सेंड करने का एक ऑप्शन है.फाइल साइज लिमिट ईमेल सर्विस प्रोवाइडर पर depend करता है इसलिए आप अपने स्पेसिफिक ईमेल सर्विस के टर्म्स एंड कंडीशंस चेक करें और उनके प्रोवाइडेड फाइल साइज लिमिट के अनुसार फाइल्स सेंड करें.

FAQ

ई-मेल कब शुरू हुआ?

30 अगस्त 1982 को

ई मेल के जनक कौन है?

Ray Tomlinson

सबसे पहला ई-मेल किसने भेजा था?

दुनिया का पहला इ-मेल सन् 1971 में अमेरिका के कैंब्रिज नामक स्थान पर रे टॉमलिंसन नामक इंजीनियर ने एक ही कमरे में रखे दो कंप्यूटरों के बीच भेजा था

जीमेल कितना सुरक्षित है?

99.9%

जीमेल का फुल फॉर्म क्या है?

google mail

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *