वर्चुअल मेमोरी क्या है? इसकी आवश्यकता क्यों होती है?

वर्चुअल मेमोरी क्या है? इसकी आवश्यकता क्यों होती है?

आजकल कंप्यूटर का इस्तेमाल कौन नहीं करता हर जगह कंप्यूटर का उपयोग होता सायद आपको पता हो की हर कंप्यूटर डिवाइस में एक मेमोरी होती है जिसे आम तौर पर RAM कहा जाता है ठीक इसी प्रकार एक और मेमोरी होती है जो वर्चुअल तरीके से काम करती है इस पोस्ट में हम जानेंगे की वर्चुअल मेमोरी क्या है? इसकी आवश्यकता क्यों होती है?

वर्चुअल मेमोरी क्या है? (What is Virtual Memory in Hindi)

वर्चुअल मेमोरी एक ऐसी तकनीक है जो कंप्यूटर को यह धारणा देती है कि उसके पास एक बड़ी मेमोरी है, भले ही उसका भौतिक मेमोरी (RAM) छोटा हो यह हार्ड डिस्क ड्राइव (HDD) जैसी सेकेंडरी मेमोरी का उपयोग करके किया जाता है
 
जब एक प्रोग्राम शुरू होता है, तो ऑपरेटिंग सिस्टम प्रोग्राम के लिए एक वर्चुअल मेमोरी एड्रेस स्पेस बनाता है. यह एड्रेस स्पेस भौतिक मेमोरी से बड़ा हो सकता है. प्रोग्राम को लगता है कि वह इस पूरी वर्चुअल मेमोरी तक पहुंच सकता है, लेकिन वास्तव में वह केवल उस हिस्से तक पहुंच सकता है जो भौतिक मेमोरी में मौजूद है.

RAM क्या है और कंप्यूटर में इसकी क्या भूमिका है?

RAM का पूरा नाम रैंडम एक्सेस मेमोरी है. यह कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी है, जहां कंप्यूटर प्रोग्राम और डेटा को अस्थायी रूप से स्टोर करता है. RAM को “प्राथमिक मेमोरी” भी कहा जाता है, क्योंकि यह सीपीयू के सबसे करीब है.
 
RAM का काम कंप्यूटर के प्रोसेसर को डेटा और निर्देश प्रदान करना है. जब आप कोई प्रोग्राम चलाते हैं, तो वह RAM में लोड होता है. प्रोसेसर तब RAM से डेटा और निर्देश पढ़ता है और उन्हें प्रोसेस करता है.
RAM कंप्यूटर के प्रदर्शन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. यदि आपके पास अधिक RAM है, तो आप एक ही समय में अधिक प्रोग्राम चला सकते हैं और अधिक डेटा को जल्दी से संसाधित कर सकते हैं.

वर्चुअल मेमोरी कैसे काम करती है?

वर्चुअल मेमोरी प्रोग्रामों को वास्तविक रैम की तुलना में अधिक मेमोरी का उपयोग करने की अनुमति देती है. यह कंप्यूटर को एक ही समय में कई प्रोग्रामों को चलाने की अनुमति भी देता है, क्योंकि ऑपरेटिंग सिस्टम प्रत्येक प्रोग्राम के लिए आवश्यक मेमोरी को अलग-अलग स्थानों पर लोड कर सकता है.
 
वर्चुअल मेमोरी की कुछ सीमाएं भी हैं. उदाहरण के लिए, ऑपरेटिंग सिस्टम को पृष्ठों को स्वैप करने के लिए समय का उपयोग करना पड़ सकता है, जिससे प्रोग्राम की प्रदर्शन में देरी हो सकती है. इसके अतिरिक्त, वर्चुअल मेमोरी के साथ प्रोग्रामिंग करना थोड़ा अधिक जटिल हो सकता है, क्योंकि प्रोग्राम को पृष्ठों के बीच स्विच करने की क्षमता को ध्यान में रखना चाहिए.

 

वर्चुअल मेमोरी की आवश्यकता क्यों है?

वर्चुअल मेमोरी की आवश्यकता निम्नलिखित कारणों से है:
 
यह प्रोग्रामों को वास्तविक रैम की तुलना में अधिक मेमोरी का उपयोग करने की अनुमति देता है. यह कंप्यूटर को अधिक जटिल और अधिक मेमोरी-गहन प्रोग्राम चलाने की अनुमति देता है.
यह कंप्यूटर को एक ही समय में कई प्रोग्रामों को चलाने की अनुमति देता है. ऑपरेटिंग सिस्टम प्रत्येक प्रोग्राम के लिए आवश्यक मेमोरी को अलग-अलग स्थानों पर लोड कर सकता है, जिससे प्रत्येक प्रोग्राम को पर्याप्त मेमोरी मिलती है.
यह प्रोग्राम को हार्डवेयर रैम की कमी से बचाता है. यदि वास्तविक रैम में पर्याप्त स्थान नहीं है, तो ऑपरेटिंग सिस्टम किसी अन्य पृष्ठ को स्वैप आउट कर सकता है और उस पृष्ठ को वर्चुअल मेमोरी में वापस भेज सकता है.

Features of Virtual Memory

वर्चुअल मेमोरी के लिए अधिक स्थान उपलब्ध होगा. जैसे-जैसे हार्ड ड्राइव की कीमतें कम होती जाती हैं, और जैसे-जैसे SSD ड्राइव अधिक व्यापक होते जाते हैं, वर्चुअल मेमोरी के लिए अधिक स्थान उपलब्ध होगा. इससे प्रोग्रामों को वास्तविक रैम की तुलना में अधिक मेमोरी का उपयोग करने की अनुमति मिलेगी, जिससे वे अधिक जटिल और अधिक मेमोरी-गहन हो सकते हैं.
 
वर्चुअल मेमोरी अधिक कुशल होती है जैसे-जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम विकसित होते जाते हैं, वे वर्चुअल मेमोरी को अधिक कुशलता से प्रबंधित करने में सक्षम होंगे. इससे पृष्ठ स्वैपिंग की लागत कम होगी, जिससे प्रोग्राम की प्रदर्शन में सुधार होगा.
 
वर्चुअल मेमोरी अधिक सुविधाजनक होगी. जैसे-जैसे प्रोग्रामिंग भाषाएं और सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट टूल विकसित होते जाते हैं, वे वर्चुअल मेमोरी के साथ प्रोग्रामिंग को अधिक सुविधाजनक बनाएंगे. इससे डेवलपर्स को अधिक जटिल और अधिक मेमोरी-गहन प्रोग्राम बनाने में आसानी होगी.

 

FAQ

वर्चुअल मेमोरी कहाँ स्थित है?
भौतिक रूप से हार्ड ड्राइव या अन्य स्टोरेज डिवाइस पर स्थित होता 
 
वर्चुअल मेमोरी किसने बनाई?
टॉम किलबर्न और उनकी टीम ने बनाई है 
 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *