Web Jacking In Cyber Security In Hindi

Web Jacking In Cyber Security In Hindi | Web Jacking क्या है?

अगर आप इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं एक बार जरुर सुना होगा हैकिंग आखिर यह Web Jacking क्यों किया जाता है और अगर आप सर्च कर रहे हैं Web Jacking In Cyber Security In Hindi तो बिल्कुल सही पोस्ट पर है इस पोस्ट के माध्यम से जानेंगे कि आप Cyber Security में Web Jacking क्या होता है

बहुत ही सरल शब्दों में समझे तो किसी domain या website पर अवैध तरीके से कब्जा करने को Web Jacking कहा जाता है।

Web Jacking In Cyber Security In Hindi

Web Jacking एक cyber attack है जिस पर हैकर किसी वेबसाइट के DNS records को बदल देता है DNS records वेबसाइट के URL को इसके IP address से map करते हैं जब हैकर DNS records को बदल देता है तो वेबसाइट का एक्चुअल URL एक fake वेबसाइट का यूआरएल बन जाता है जब कोई यूजर फेक वेबसाइट को visit करता है तो वह हैकर के कंट्रोल में आ जाता है

हैकर यूजर से किसी भी तरह का डाटा या इनफॉरमेशन को अवैध तरीके से चोरी कर सकता है जैसे कि क्रेडिट कार्ड डिटेल, बैंक अकाउंट डिटेल या पर्सनल इनफॉरमेशन ऐसे किसी भी डिटेल पर अवैध तरीके से कब्जा कर लेता है।

Web Jacking कितने प्रकार के होते है

Web Jacking मुख्यताः दो प्रकार के होते हैं

DNS spoofing

इस टाइप के अटैक में हैकर वेबसाइट कर DNS server पर अटैक करता है और DNS records को बदल देता है जिससे वेबसाइट एक रियल यूआरएल के साथ होती है पर वह fake वेबसाइट में तब्दील हो जाती है अटैकर हमेशा DNS server पर सबसे पहले फोकस करता है

Man-in-the-middle attack

इस टाइप के अटैक में हैकर यूजर और वेबसाइट के बीच में अवैध तरीके से घुसने की कोशिश करता है यानी की वेबसाइट के DNS records को बदल देता है जिससे वेबसाइट हैकर के द्वारा हैक कर ली जाती है ऐसा करने से वेबसाइट की सारी इनफार्मेशन हैकर के पास चले जाते हैं

Web Jacking से कैसे बचें

जब भी किसी अटैकर के द्वारा Web Jacking की जाती है तो उससे बचने के लिए कुछ उपाय भी होते हैं जो इस प्रकार है

  • Strong passwords का use करें – Web Jacking से बचने के लिए सबसे पहला स्टेप यह है कि आपको एक स्ट्रांग पासवर्ड का इस्तेमाल करना चाहिए पासवर्ड में कम से कम 12 कैरेक्टर्स जरूर होना चाहिए जिसमें नंबर्स, लेटर और सिंबल्स का मिक्स करके पासवर्ड को क्रिएट करें
  • Two-factor authentication – आप अपना वेबसाइट पर Two-factor authentication का इस्तेमाल करके अपने अकाउंट को सुरक्षित रख सकते हैं अगर आप टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन के बारे में नहीं जानते तो आपको बता दे की टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन एक ऐसा जरिया है कि आपकी वेबसाइट पर login करने के लिए केवल पासवर्ड की जरूरत नहीं होती बल्कि पासवर्ड एंटर करने के बाद आपको एक OTP या कोड का इस्तेमाल करना जरूरी होता है तभी आप वेबसाइट पर पूरी तरह से लॉगिन कर पाएंगे अगर दूसरे स्टेप को आप पूरा नहीं करते हैं तो आप वेबसाइट पर लॉगिन नहीं कर पाएंगे। आपकी वेबसाइट पर आप तो क्या कोई भी सेकंड वेरिफिकेशन के बगैर कभी भी login नहीं कर पाएगा इसी को ही Two-factor authentication कहा जाता है
  • Websites की security चेक करें – वेबसाइट की सिक्योरिटी चेक करने के लिए आप वेबसाइट सिक्योरिटी स्कैनर का इस्तेमाल कर सकते हैं जिसके जरिए आप अपनी वेबसाइट की सिक्योरिटी से जुड़े छोटे-छोटे कमियों को स्कैन कर सकते हैं और उन्हें ठीक करके आप अपनी वेबसाइट को सिक्योर कर सकते हैं जिससे आपको अनचाहे अटैक से बचने का सबसे महत्वपूर्ण तरीका मिल सकता है।
  • Awareness रखें- Web Jacking के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी हासिल करें कि यह कैसे होता है और कैसे इससे बच सकते हैं इसके बारे में aware रहना बहुत आवश्यक होता है अगर आप aware है तो इस ऐसे अनचाहे अटैक से आसानी से बच सकते हैं

Web Jacking के लिए cyber security solutions क्या क्या होते है

  • Cyber security companies, Web Jacking के लिए कुछ सॉल्यूशन ऑफर करते हैं इस solution में DNS filtering, सिक्योरिटी अवेयरनेस, ट्रेनिंग और वेबसाइट सिक्योरिटी स्कैनिंग शामिल होते हैं इनके जरिए Web Jacking से बचा जा सकता है।
  • जैसा कि अब तक हम जान चुके हैं कि Web Jacking एक सीरियस साइबर अटैक है इस अटैक से बचने के लिए आपको सेफ्टी टिप्स फॉलो करना चाहिए और साइबर सिक्योरिटी सॉल्यूशन का उसे करना चाहिए

अंतिम शब्द

इस पोस्ट के माध्यम से हमने जाना कि Web Jacking क्या होता है और इसे कैसे बचा जा सकता है अगर आप ऊपर बताए गए टिप्स को फॉलो करते हैं तो आपकी वेबसाइट को हमेशा के लिए आप सुरक्षित रख सकते हैं और ऐसे अनचाहे अटैक से बच सकते हैं।

इन्हें भी पढ़ें:-

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *